कमलनाथ का एलान: कहा- मैं और सिंधिया नहीं लड़ेंगे चुनाव, अजय सिंह (राहुल)हो सकते है सी एम पद के  प्रवल दावेदार

मंगल भारत भोपाल. मध्यप्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने राहुल गांधी के भोपाल दौरे से पहले एक बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा, मैं और ज्योतिरादित्य सिंधिया विधानसभा के चुनाव नहीं लड़ेंगे। उन्होंने साफ किया कि राज्य में पार्टी की स्थिति ऐसी भी नहीं है कि चुनाव लड़ने के लिए हमें उतरना पड़े। हम एकजुट होकर चुनाव मैदान में उतरेंगे और सरकार बनाएंगे। कमलनाथ ने यह बात रविवार को इंदौर में मीडिया को संबोधित करते हुई कही।

सांसद हैं कमलनाथ और सिंधिया
कमलनाथ और ज्योतिरादित्य सिंधिया के चुनाव नहीं लड़ने का एक कारण यह भी है कि दोनों ही नेता लोकसभा सांसद हैं। कमलनाथ छिंदवाडा़ तो ज्यातिरादित्य सिंधिया गुना-शिवपुरी संसदीय क्षेत्र से सांसद हैं। और दोनों ही मनमोहन सिंह की सरकार में मंत्री थे। अगर राज्य में कांग्रेस की सरकार बनती है तो दोनों में से जिसे मुख्यमंत्री बनाया जाएगा उसे विधानसभा चुनाव लड़ना होगा। विधानसभा चुनाव तभी लड़ सकते हैं जब कोई सीट खाली हो। हालांकि अभी तक कांग्रेस ने ये घोषणा नहीं की है कि राज्य में कांग्रेस के चुनाव जीतने पर मुख्यमंत्री कौन होगा। वहीं, भाजपा एक बार फिर से शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में चुनाव मैदान में उतरी है।

तेज हुई सियासत
कमलनाथ के इस बयान के बाद पार्टी में सियासत तेज हो गई है। कमलनाथ और ज्योतिरादित्य सिंधिया को मुख्यमंत्री पद का मुख्य दावेदार माना जा रहा है। अगर दोनों ही नेता चुनाव नहीं लड़ते हैं तो मुख्यमंत्री पद का दावेदार कौन होगा। अगर राज्य में १५ साल बाद पार्टी की वापसी होती है तो कमलनाथ और सिंधिया के चुनाव नहीं लड़ने के एलान के बाद सीएम कौन होगा इस पर भी चर्चा शुरू हो गई है। मध्यप्रदेश में विधान परिषद का भी कोई विकल्प नहीं है कि सरकार बनने के बाद दोनों में से कोई एक नेता विधान परिषद का सदस्य बनकर मुख्यमंत्री बने। मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव 2018 के लिए सियासी जोड़-तोड़ जारी है। कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने रविवार को कहा, ‘बीजेपी के 30 विधायकों ने मुझसे संपर्क किया था। मैं ये नहीं कह सकता कि बीजेपी विधायकों ने मुझसे संपर्क क्यों किया। उन्होंने कहा कि राज्य की कुल 230 विधानसभा सीटों के टिकट के लिए कांग्रेस के सामने करीब 2,500 नेताओं ने अपनी दावेदारी पेश की है जिसमें से सत्तारूढ़ बीजेपी के 30 मौजूदा विधायक भी शामिल हैं।’

अजय सिंह (राहुल)हो सकते है सी एम पद के  प्रवल दावेदार

जहा तक दावेदारों का सवाल है तो सबसे प्रबल दावेदारों में अजय सिंह राहुल नेता प्रतिपक्ष का नाम सूची में प्रथम होना चाहिए , क्योकि कई बार देखने को मिला है कि उनके समर्थक सी एम पद के लिए उनका नाम प्रोजेक्ट करते आये है , दीपक बाबरिया का रीवा सीधी दौरा इस बात को सिद्ध करता है , जहा तक बात है सर्वे की हमारे द्वारा सर्वे में यह पाया गया कि जनता का मत भले ही कुछ और हो  लेकिन काँग्रेस पार्टी के कार्य कर्ताओ की पहली पसंद अजय सिंह राहुल ही है , हमने इन्दोर के युवा नेता दौलत पटेल से जब इस संबंध में जानना चाहा तो उन्होंने यह स्पष्ट रूप से कहा कि कार्य कर्ताओ की पहली पसंद अजय सिंह ही है

अब देखना यह है कि आखिर काँग्रेस पार्टी किसे सी एम के लिए प्रोजेक्ट करती है ……

बलराम पांडेय                           अम्बुज तिवारी 

सलाहकार संपादक।                     पत्रकार 

9893572905                         8085303705

          

x

Check Also

गणतंत्र दिवस समारोह के मुख्य अतिथि होंगे ब्राजील के राष्ट्रपति बोलसोनारो

ब्राजील। ब्राजील के राष्ट्रपति जायर बोलसोनारो ने अगले साल भारत के गणतंत्र दिवस समारोह में मुख्य अतिथि बनने का प्रधानमंत्री ...