श्वेता व उनकी साथी युवतियों पर जमकर मेहरबान थे अफसर, लुटाए लाखों

भोपल .मंगल भारत)। इंदौर नगर निगम के इंजीनियर

हरभजन सिंह पर तीन करोड़ रुपए की अड़ी डालने के आरोप में गिरफ्तार महिलाओं पर अफसर खूब मेहरबान थे। खुलासा हुआ है कि दर्जन भर आईएएस अफसरों ने गिरोह की मुखिया श्वेता जैन और उससे जुड़ी महिलाओं के एनजीओ को बीस से पचास लाख रुपए तक का काम एक दिन में दे दिया था। ऐसा करने वाले अफसरों को अब एसआईटी के सामने पेश होने को कहा जाएगा। इंदौर पुलिस ने नगर निगम के इंजीनियर हरभजन सिंह की शिकायत पर श्वेता विजय जैन, श्वेता स्वप्निल जैन, बरखा अमित सोनी, आरती दयाल और मोनिका यादव को गिरफ्तार किया था। उन्होंने इंजीनियर पर तीन करोड़ रुपए की अड़ी डाली थी। नहीं देने पर अश्लील वीडियो वायरल करने की धमकी दी थी। इस शिकायत पर इंदौर के पलासिया थाने में महिलाओं के खिलाफ ब्लैकमेल करने का मुकदमा दर्ज किया था। महिलाओं की गिरफ्तारी इंदौर और भोपाल से की गई थी। उनके पास से कई पूर्व मंत्रियों, कुछ कारोबारियों और मध्यप्रदेश के एक दर्जन आईएएस अफसरों के आडियो-वीडियो और पोर्न फिल्में मिली थीं।
उस तलाशी में नगद राशि और जेवरात के अलावा पांच पेन ड्राइव मिली हैं। श्वेता ने पहले पूछताछ में बताया था कि पेन ड्राइव में कुछ आईएएस अफसरों और कारोबारियों के अश्लील वीडियो सेव किए गए हैं। पुराने और नए तथ्यों के आधार पर एक दर्जन से अधिक आईएएस अफसर जांच के घेरे में आ गए हैं। उनकी भूमिका की जांच तकरीबन कर ली गई है। एनजीओ को जो काम मिले थे, उस आधार पर आईएएस अफसर गंभीर कदाचरण के दायरे में आ सकते हैं। ऐसा इसलिए कई आईएएस अफसरों ने तो महिलाओं के एनजीओ को बिना तय मापदंड और बिना फाइलों की औपचारिकता पूरी किए लाखों रुपए के काम दे दिए गए थे। अफसरों ने यह काम भी महज एक आदेश जारी कर एक दिन में कर दिया थे। इसी मामले में प्रदेश सरकार के एक कद्दावर मंत्री के ओएसडी की भूमिका भी सामने आई है। पुलिस ने महिलाओं के लैपटाप में वीडियो दिखाकर पूछा था कि यह आदमी कौन है, तब उन्होंने मंत्री के ओएसडी का नाम बताया था। पुलिस की अब तक की पड़ताल से यह पता चल रहा है कि अफसर किस तरह से ब्लैकमेल हुए थे और उन्होंने कितने बड़े-बड़े गुनाह किए थे। पुलिस ने नए सिरे से मामले की पड़ताल शुरू कर दी है।

x

Check Also

स्कूली के बच्चों का सामान्य ज्ञान बढ़ाने की कवायद, केबीसी की तरह होगी स्पर्धा

भोपाल (मंगल भारत)। प्रदेश के सरकारी स्कूलों में अध्ययनरत बच्चों में सामान्य ज्ञान वृद्धि के लिए अब सरकार नया प्रयोग करने ...