कांग्रेस को लग सकता है बड़ा झटका, नई पार्टी बना सकते हैं सिंधिया

सिंधिया समर्थक सुरेश रथखेड़ा का दावा
भोपाल (मंगल भारत)। मध्यप्रदेश में कांग्रेस के लिए

मुश्किल खड़ी हो सकती है। पार्टी के बड़े नेता अलग हो सकते हैं। बड़े राजनीतिक उलटफेर की संभावना बनती दिख रही है। कांग्रेस के बड़े नेता और मध्य प्रदेश में पार्टी के फेस ज्योतिरादित्य सिंधिया कांग्रेस से अलग हो सकते हैं। कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया अपनी नई पार्टी बना सकते हैं। ये संकेत उनके समर्थक विधायक ने किया है। कांग्रेस विधायक और सिंधिया के समर्थक शिवपुरी जिले की पोहारी से विधायक सुरेश राठखेड़ा ने दावा किया है कि ज्योतिरादित्य सिंधिया अपनी नई पार्टी बना सकते हैं। सुरेश रथखेड़ा का कहना है कि सबसे पहले मुझे नहीं लगता कि महाराज साहब कांग्रेस छोड़ेंगे। आपको बता दें कि ज्योतिरादित्य सिंधिया को पार्टी नेता प्यार से महाराज साहब करते हैं। विधायक रथखेड़ा ने कहा कि हमें लग रहा था कि वो कांग्रेस छोड़ेंगे। लेकिन ये भी है कि वो किसी दूसरी पार्टी में शामिल नहीं होंगे। उन्होंने कहा कि वो अपनी पार्टी बना सकते हैं, मध्यप्रदेश में उनकी ताकत है। विधायक रथखेड़ा ने कहा कि अगर वह पार्टी बनाते हैं तो सबसे पहले मैं ज्वॉइन करूंगा। उन्होंने कहा कि पार्टी सर्वोच्च है, लेकिन मेरे लिए सिंधिया साहब पहले आते हैं। अगर ये दावा सच साबित हुआ तो मध्य प्रदेश में कांग्रेस की मुश्किल खड़ी हो सकती है। वहीं इसका असर राष्ट्रीय राजनीति पर भी पडऩा तय है। उल्लेखनीय है कि सिंधिया परिवार भाजपा के साथ 50 साल से जुड़ा हुआ है। माधवराव सिंधिया और ज्योतिरादित्य सिंधिया ही कांग्रेस से जुड़े हुए थे। इस वजह से सिंधिया की इस संभावना को बल मिलने लगा है। कहा यह भी जा रहा है कि सिंधिया के कांग्रेस छोडऩे के बाद मप्र में उनके समर्थक मंत्री और विधायक भी कांग्रेस से इस्तीफा दे सकते हैं । हालांकि स्पष्ट तौर पर कोई सिंधिया समर्थक इस मामले में यही कह रहा है कि महाराज साब जो कहेंगे हम तो वही करेंगे। हम तो उनके आदेश से बंधे हुए हैं। अगले माह होने वाले विधानसभा के शीतकालीन सत्र में भाजपा कुछ बड़ा कर सकती है। हालांकि भाजपा की इस संभावित रणनीति को लेकर प्रदेश की कमलनाथ सरकार भी सजग हो गई है और सभी विधायकों को एकजुट रखने की कवायद में जुट गई है।

x

Check Also

स्कूली शिक्षा विभाग के लिए परीक्षा नहीं, डांस जरूरी

भोपाल। नवीं से बारहवीं तक के विद्यार्थियों को अद्र्धवार्षिक परीक्षा देना अनिवार्य नहीं है, लेकिन डांस सिखाना विभाग ने सर्वोच्च ...