सिंधिया के बाद अब लक्ष्मण सिंह ने भी बदला स्टेटस, लिखा विधायक, कृषक और गायक

भोपाल (मंगल भारत)। पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के

छोटे भाई एवं चांचोड़ा से कांग्रेस विधायक लक्ष्मण सिंह के एक बार फिर बगावती तेवर नजर आ रहे हैं। उन्होंने भी पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया की तरह अपने ट्विटर हैंडल से स्टेटस बदल दिया है। उन्होंने भी अपने प्रोफाइल में विधायक, कृषक, गायक लिखा है। इसके साथ ही उन्होंने लगातार तीन ट्वीट कर अपनी ही सरकार पर सवाल उठाए हैं। कांग्रेस विधायक लक्ष्मण सिंह ने अपने ट्विटर हैंडल ऐसे समय में बदलाव किया है, जब पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने भी हाल ही में अपना स्टेटस बदला था, जिसके बाद राजनीति गर्मा गई थी। इसके साथ ही उन्होंने एक के बाद एक तीन ट्वीट करके अपनी सरकार पर सवाल उठाए हैं, वहीं महाराष्ट्र में शिवसेना के साथ गठबंधन करने पर भी इसे गलत बताया है। उधर, कांग्रेस नेता लक्ष्मण सिंह ने अपनी ही पार्टी को घेर लिया है। उन्होंने महाराष्ट्र में शिवसेना के साथ सरकार बनाने को लेकर अपनी ही पार्टी के बारे में कहा है कि इस प्रकार सरकार बनाने से बहुत गलत संदेश गया है।
दांगी के बयान पर कसा तंज
कांग्रेस विधायक गोवर्धन दांगी ने भाजपा सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर के ऊपर दिए बयान पर भी विधायक लक्ष्मण सिंह ने कहा कि लगता है मिर्ची यज्ञ से प्रभावित होकर गोवर्धन दांगी ने ऐसा बयान दिया है। गोवर्धन दांगी को ऐसे बयान नहीं देना चाहिए। गौरतलब है कि दांगी ने हाल ही में कहा है कि जगह-जगह पुतले जलाए जाएंगे और साध्वी खुद आती है तो साक्षात उन्हें जला दिया जाएगा। वहीं लोकसभा चुनाव में पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह भोपाल से प्रत्याशी बनाए गए थे। तभी कम्प्यूटर बाबा समेत कई साधु-संतों ने दिग्विजय सिंह के समर्थन में मिर्ची यज्ञ का आयोजन किया था। तब इस यज्ञ को दिग्विजय सिंह की जीत सुनिश्चित करने के लिए तंत्र-मंत्र क्रिया माना गया था।
और क्या बोले लक्ष्मण सिंह
-कांग्रेस विधायक लक्ष्मण सिंह ने कहा है कि आदिवासी इलाकों में जमीन बेचने के कैबिनेट के फैसले आदिवासियों में नाराजगी है।
-नए विधायक विश्रामगृह को लेकर भी लक्ष्मण सिंह ने सवाल उठाते हुए कहा है कि 320 विधायकों के लिए पुराना विधायक विश्रामगृह है। अभी केवल 230 विधायक हैं। नए विधायक विश्रामगृह को लेकर भी जनता में आक्रोश है।

x

Check Also

स्कूली शिक्षा विभाग के लिए परीक्षा नहीं, डांस जरूरी

भोपाल। नवीं से बारहवीं तक के विद्यार्थियों को अद्र्धवार्षिक परीक्षा देना अनिवार्य नहीं है, लेकिन डांस सिखाना विभाग ने सर्वोच्च ...