शिक्षा सुधार के लिए गांव के स्कूलों में बनेगी शैक्षिक कार्ययोजना

भोपाल (मंगल भारत)। कमलनाथ सरकार अब शिक्षा

की गुणवत्ता सुधार के लिए कदम उठाने जा रही है। इसके तहत बगले साल के लिए नई कार्ययोजना तैयार की जाएगी। खास बात यह है कि अब भोपाल की जगह गांवो कके स्कूलों में यह कार्ययोजना तैयार की जाएगी, जिसके लिए अफसरों को इन स्कूलों में जाना होगा। कमलनाथ के एजुकेशन विजन 2020 के तहत इसका रोडमैप तैयार किया जा रहा है। जिसके तहत अफसरों की टीमें प्रदेश के हर गांव-तहसील के स्कूलों में जाकर पता करेंगी कि स्कूल व शिक्षा की वास्तविक जरूरतें क्या हैं, इसके बाद ही वार्षिक कार्ययोजना तैयार की जाएगी। यही नहीं अब शिक्षा का बजट भी इसी आंकलन के आधार पर तैयार होगा। दरअसल, सीएम कमलनाथ के शैक्षिक सुधार के एजेंडे के तहत पहली बार इस प्रकार शैक्षक कार्ययोजना बनाने का निर्णय लिया गया है। इसके तहत जिला, विकासखंड और तहसील स्तर पर स्पेशल टीमें गठित करने के लिए कहा गया है। यह टीमें गांव-गांव तक जाकर सरकारी स्कूलों की हालत जानकर वार्षिक शैक्षिक कार्ययोजना के लिए सुझाव लेंगी। फिर इन सुझावों के आधार पर पहले विकासखंड, फिर जिला और उसके बार राज्य स्तर पर रिपोर्ट तैयार होगी। इसी रिपोर्ट के आधार पर राज्य स्तरीय कमेटी शैक्षिक कार्ययोजना को अंतिम रुप देगी।
मैदानी दिक्कतें होगी दूर
विशेष टीमों के आकलन के बाद स्कूलों की मैदानी दिक्कतों को भी दूर किया जाएगा। साथ ही इन दिक्कतों के हिसाब से पूरे साल की कार्ययोजना व शेड्यूल तय होंगे। इस बार बड़ी संख्या में शालाओं का युक्तियुक्तकरण किया गया है, इसलिए इस हिसाब से भी कार्ययोजना को अपडेट किया जाएगा।
योजनाओं का होगा आंकलन
इस बार शिक्षा विभाग ने अपनी विभिन्न योजनाओं का भी आंकलन करना तय किया है। इसके तहत अगले सत्र में योजनाओं की परफार्मेंस के हिसाब से शेड्यूल निर्धारित किए जाएंगे। इसके अलावा बजट आवंटन भी योजनाओं के परफार्मेंस के हिसाब से होगा।

x

Check Also

थप्पड़ कांड: आर-पार के मूड में भाजपा

भोपाल (मंगल भारत)। पिछले दिनों सीएए के समर्थन में रैली को लेकर राजगढ़ में भाजपा कार्यकर्ताओं के साथ राजगढ़ कलेक्टर द्वारा ...