पवन जैन बन सकते हैं लोकायुक्त संगठन में डीजी

लोकायुक्त संगठन में विशेष पुलिस स्थापना में

महानिदेशक के पद पर पदस्थ अनिल कुमार के सेवानिवृत्त होने के पहले नए डीजी के लिए अधिकारियों की तलाश शुरू कर दी गई है। माना जा रहा है कि इस पद का प्रभार हाल ही में एडीजी के तौर पर पदस्थ हुए पवन जैन को प्रभार दिया जा सकता है। इसके साथ ही विशेष पुलिस स्थापना में एडीजी के दो पदों पर नए अधिकारियों को पदस्थ किए जाने की भी संभावना है। डीजी पद पर पदस्थ अनिल कुमार (1986 बैच) का अप्रैल में रिटायरमेंट है। वे दिसंबर 2016 में लोकायुक्त में प्रभारी महानिदेशक के रूप में पदस्थ किए गए थे। वे अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक के रूप में करीब पौने दो साल तक रहे और इसके बाद सितंबर 2018 में महानिदेशक पद पर पदोन्नित होने पर प्रभारी डीजी बनाए गए थे। उनके बाद डीजी पद का प्रभार अक्टूबर में एडीजी के रूप में पदस्थ किए गए 1987 बैच के आईपीएस अधिकारी पवन जैन को सौंपे जाने की संभावना बनी हुई है। वे विशेष पुलिस महानिदेशक केएन तिवारी के मार्च में सेवानिवृत्ति होने पर डीजी पद पर पदोन्नत होंगे और अप्रैल में वे लोकायुक्त संगठन की विशेष पुलिस स्थापना में महानिदेशक बनाए जा सकते हैं। उनके बैच के एक अधिकारी विजय यादव को पिछले साल जून में ही पदोन्नित मिल चुकी है। विशेष पुलिस स्थापना में दो अतिरिक्त महानिदेशक पद स्वीकृत हैं, लेकिन जैन के महानिदेशक पद पर पदोन्नित के बाद दो एडीजी की आवश्यकता भी होगी। एडीजी का एक पद अभी भी रिक्त है, लेकिन जैन की पदोन्नित होने पर दोनों ही रिक्त हो जाएंगे। सूत्रो की मानें तो इसके लिए 1989, 1990, 1993 बैच के अधिकारियों में से किन्हीं दो अधिकारियों का चयन किया जा सकता है। अशोक अवस्थी, संजीव शमी के नाम प्रमुखता से लिए जा रहे हैं। हालांकि जोन में पदस्थ एडीजी में से भी किसी को विशेष पुलिस स्थापना में पदस्थ किया जा सकता है।

x

Check Also

थप्पड़ कांड: आर-पार के मूड में भाजपा

भोपाल (मंगल भारत)। पिछले दिनों सीएए के समर्थन में रैली को लेकर राजगढ़ में भाजपा कार्यकर्ताओं के साथ राजगढ़ कलेक्टर द्वारा ...