कई जिलों में बारिश ओले के आसार

भोपाल। मध्य प्रदेश में भले ही अभी दिन के समय में

सर्दी से लोगों को थोड़ी सी राहत मिल रही है लेकिन रात में सर्द हवाएं लोगों को ठिठुरा रही हैं। लेकिन मौसम विभाग लोगों को अभी कड़ाके की सर्दी के लिए चेता रहा है। मौसम वैज्ञानिकों का कहना है कि मध्य प्रदेश में एक बार फिर से सर्द हवाएं लोगों को कंपकंपाने वाली हैं। पश्चिमी विक्षोभ पाकिस्तान और आसपास के इलाकों बना है। राजस्थान में उपरी हवा का चक्रवात बना है जिसका असर मप्र में दिखाई दे रहा है। इसी सिस्टम के चलते ही पूरे मप्र में बारिश हो सकती है। राजधानी सहित प्रदेश में एक बार फिर मौसम में बदलाव आया है। इसके चलते आज सुबह से ही प्रदेश के कई इलाकों में बारिश हुई। कल की चटक धूप के बाद आज सुबह से शहर में हल्के बादल छाए हुए हैं। हवा के साथ नमी आने की वजह से यह स्थिति बनी। इससे प्रदेश में कहीं-कहीं बारिश भी हुई। बीते रोज दिन के तापमान में इजाफा होने से लोगों को ठंड से जरुर राहत मिली है , लेकिन माना जा रहा है कि कल से एक बार फिर तेज और उसके बाद ठंड का दौर शुरु हो सकता है।
मौसम वैज्ञानिकों का कहना है कि अभी दो से तीन दिनों तक और पूरे मध्य प्रदेश में बारिश होने के आसार हैं। पूर्वी मप्र के रीवा, सागर, शडहोल संभाग में बारिश होने के आसार हैं, तो जबलपुर, शहडोल संभाग में ओलावृष्टि हो सकती है। बारिश के थमते ही 9 जनवरी के बाद कड़ाके की सर्दी लोगों को कंपकंपाने वाली है यानि उत्तर भारत से आने वाली सर्द हवाएं अब लोगों को औऱ ज्यादा कंपकंपाएगी।
बारिश और ओलावृष्टि से फसलों को नुकसान : पूरे प्रदेश में बारिश और ओलावृष्टि का दौर बमुश्किल दो दिन पहले ही थमा है। ऐसे में अब मौसम विभाग ने फिर से कुछ इलाकों में बारिश और ओलावृष्टि की चिंता जाहिर की है। तो किसानों की चिंता जरूर बढ़ गई है। मौसम विभाग का कहना है कि बारिश और ओलावृष्टि से फसलों को नुकसान पहुंच सकता है। चना और दलहन की फसलों के खराब होने की आशंका है।

x

Check Also

वृद्धाश्रम में जंजीरों में जकड़े 73 बुजुर्ग, आजाद

हैदराबाद। तेलंगाना पुलिस ने हैदराबाद स्थित एक वृद्धाश्रम से 73 बुजुर्गों को रेस्क्यू किया। सूत्रों के मुताबिक, इन बुजुर्गों को चेन ...