डीआईजी पर लगा दोस्त की बेटी से छेड़छाड़ का आरोप

मुंबई। एक नाबालिग लड़की के साथ छेड़छाड़ के आरोपों

में घिरे महाराष्ट्र के डीआईजी निशिकांत मोरे को राज्य सरकार ने निलंबित कर दिया। यह जानकारी गृह मंत्री अनिल देशमुख ने दी। मोरे इन दिनों फरार चल रहे हैं। डिप्टी इंस्पेक्टर जनरल (मोटर वाहन) मोरे के खिलाफ यह कार्रवाई नवी मुंबई से लगते तालोजा पुलिस में उनके खिलाफ छेड़छाड़ का मामला दर्ज कराए जाने के दो हफ्ते बाद की गई है। देशमुख ने बताया कि मोरे को निलंबित करने का निर्णय राज्य के डीजीपी की रिपोर्ट के आधार पर लिया गया है। पुलिस के अनुसार, छेड़छाड़ की वारदात जून 2019 में 17 वर्षीय पीडि़ता के घर में उसकी जन्मदिन पार्टी के दौरान घटी थी। हालांकि आईपीएस अधिकारी के खिलाफ मामला 26 दिसंबर को दर्ज कराया गया। पीडि़ता के पिता और आरोपी पुलिस अधिकारी आपस में दोस्त थे। इस बीच पनवेल की सत्र अदालत ने मोरे की अग्रिम जमानत याचिका खारिज कर दी। मोरे की याचिका का विरोध करते हुए तालोजा पुलिस ने तर्क दिया कि पीडि़ता लापता है और ऐसी परिस्थिति में आरोपी को जमानत देना सही नहीं होगा। इस पर अदालत ने जमानत याचिका रद्द कर दी और साथ ही कोई भी अंतरिम संरक्षण देने से भी इनकार कर दिया।

x

Check Also

देश में 24 घंटे में कोरोना के रिकॉर्ड 64,399 नए मामले

नई दिल्ली, मंगल भारत। देश में कोरोना संक्रमित मरीजों के मिलने का सिलसिला लगातार जारी है। पिछले 24 घंटे में कोरोना ...