गिरफ्तार डॉक्टर शुक्ला के तार व्यापमं से जुड़े, जांच शुरू

भोपाल (मंगल भारत)। गृहमंत्री अमित शाह के नाम पर ।

राज्यपाल को फोन करने वाले विंग कमांडर कुलदीप बाघेला और उसके दोस्त डॉ. चंद्रेश शुक्ला से दिल्ली से एयरफोर्स के अफसरों की टीम ने आकर पूछताछ शुरू कर दी है। यही नहीं चिकित्सक के तार व्यापमं घोटाले से भी जुडऩे लगे है। इसके चलते अब एसटीएफ ने भी इस दिशा में जांच शुरू कर दी है। दरअसल वर्ष 2013 में जब विंग कमांडर बाघेला राजभवन भोपाल में पदस्थ थे। उस समय राज्यपाल रामनरेश यादव थे। व्यापमं घोटाले में तत्कालीन राज्यपाल के बेटे शैलेष का नाम व्यापमं घोटाले से जुड़ा था। राजभवन में होने के कारण विंग कमांडर की अच्छी पहचान थी। विंग कमांडर के कृत्य को देख व्यापमं मामले की दिशा में पूछताछ शुरू हो गई है। दोनों आरोपियों को एसटीएफ सोमवार को न्यायालय में पेशकर उनका रिमांड मांगेगी।
डा. शुक्ला की डिग्रियों से प्रभावित थे राज्यपाल
एसटीएफ के मुताबिक डॉ. शुक्ला का उनके एक नजदीकी ने पूर्व राज्यपाल रामनरेश यादव से परिचय कराया था। डॉ. शुक्ला के व्यवहार और डिग्रियों से राज्यपाल प्रभावित हुए थे। डॉ. शुक्ला ने यादव के दांतों का इलाज किया था, जिससे उन्हें काफी आराम मिला था। इसके बाद वह यादव के डेंटिस्ट बन गए थे। उनका लगातार राजभवन आना-जाना होता था। इसी दौरान डॉ. शुक्ला की दोस्ती विंग कमांडर बाघेला से हो गई।
पूर्व राज्यपाल नहीं करते थे क्रास वेरिफिकेशन
एसटीएफ की पूछताछ में विंग कमांडर बाघेला ने बताया कि पूर्व राज्यपाल यादव किसी भी फोन या सिफारिश का क्रास वेरिफिकेशन नहीं करते थे। इसी धारणा के कारण डा. शुक्ला की मदद करने के लिए तैयार हो गए और राज्यपाल से अमित शाह बनकर बात कर ली। बाघेला जानते थे कि राज्यपाल केवल गृहमंत्री अमित शाह की बात नहीं टाल सकते हैं।
साक्षात्कार के बाद लगाया गया फोन
एसटीएफ एसपी राजेश सिंह भदौरिया के मुताबिक जुलाई में मेडिकल यूनिवर्सिटी के कुलपति नियुक्त करने की अधिसूचना जारी हुई थी। चंद्रेश ने कुलपति बनने का आवेदन किया था। तीन जनवरी को राज्यपाल के निर्देश में बनी सर्च कमेटी ने उसका इंटरव्यू लिया। इंटरव्यू से निकलने के थोड़ी देर बाद आरोपी ने राज्यपाल कार्यालय को फोन कर खुद की नियुक्ति के लिए सिफारिश कराई थी।
पद, क्लीनिक, विदेशी डिग्री, लग्जरी कारों की जांच
जांच एजेंसी को जानकारी मिली कि चंद्रेश डेंटल काउंसिल ऑफ इंडिया का पदाधिकारी है। इसके अलावा एमडीएस के साथ विदेशी शैक्षणिक संस्थानों की उसके पास डिग्री हैं। साकेत नगर में क्लीनिक चलाता है। उसके पास लग्जरी कारों का काफिला है। जांच एजेंसी अब इन सभी की जांच कर रही है। एसटीएफ को आरोपी की डिग्री पर भी संदेह है। पुलिस उसकी संपत्ति, कॉल डिटेल की भी जांच कर रही है।
फिल्म देशभक्ति में किया अभिनय
एसपी राजेश सिंह भदौरिया ने बताया कि फिल्म देशभक्ति की हाल ही में सीहोर में शूटिंग हुई है। इसमें चंद्रेश ने भी अभिनय किया है। इसके अलावा वह राजनीति में सक्रिय रहा है। राजभवन में भी वह आता-जाता रहा है। कांगे्रस के एक नेता का भी वह बेहद खास माना जाता है। यह नेता महाकौशल से वास्ता रखते हैं।

x

Check Also

देश में 24 घंटे में कोरोना के रिकॉर्ड 64,399 नए मामले

नई दिल्ली, मंगल भारत। देश में कोरोना संक्रमित मरीजों के मिलने का सिलसिला लगातार जारी है। पिछले 24 घंटे में कोरोना ...