क्लीनचिट पाने वाले डीएमई-व्यापमं के पूर्व अफसरों से फिर पूछताछ का दौर शुरू

भोपाल (मंगल भारत)। देश के बहुचर्चित व्यापमं घोटाले

की पूर्व हुई जांच के दौरान क्लीनचिट पाने वाले डीएमई-व्यापमं के अफसरों से एक बार फिर पूछताछ का दौर शुरू हो गया है। इनसे पुरानी शिकायतों की जांच को लेकर फिलहाल एसटीएफ ने नोटिस देकर पहले चरण की पूछताछ की है। इनमें व्यापमं और चिकित्सा शिक्षा संचालनालय के तत्कालीन अधिकारी शामिल हैं। इस दौरान व्यापमं के पूर्व नियंत्रक सुधीर सिंह भदौरिया ने परीक्षा केंद्र प्रभारी और पर्यवेक्षक को दोषी बताया तो चिकित्सा शिक्षा संचालनालय के तत्कालीन संचालकों एसएस कुशवाह, डॉ. एनएम श्रीवास्तव और डॉ. एससी तिवारी ने दस्तावेजों की जांच में चूक को निचले स्टाफ की गलती बताकर स्वयं को निर्दोष बताया है। एसटीएफ इन अफसरों से एक बार फिर से पूछताछ करेगी। दरअसल एसटीएफ के पास व्यापमं घोटाले की 197 पुरानी शिकायतों की जांच का जिम्मा है। इनमें अब तक एसटीएफ 10 एफआईआर दर्ज कर चुका है। सूत्रों की माने तो पीएमटी 2009 में मुन्ना भाई की मदद से परीक्षा उत्तीर्ण करने वाले बैतूल में सरकारी डॉक्टर के रूप में काम कर रहे डॉ. पल्लव अमृतफाले व ग्वालियर में निजी हॉस्पिटल में चिकित्सक डॉ. हितेष अलावा को लेकर व्यापमं के तत्कालीन नियंत्रक सुधीर सिंह भदौरिया से कुछ सवाल किए गए। व्यापमं घोटाले में सामने आए इंजन-बोगी के सैकड़ों प्रकरणों का खुलासा होने पर अमृतफाले व अलावा के मामले को भी उसी से जोडक़र देखा जा रहा है। दोनों की परीक्षाएं किन्हीं दूसरे व्यक्ति द्वारा दिए जाने के अब तक कुछ साक्ष्य सामने आए हैं और इसी तरह की गड़बड़ी सीबीआई द्वारा विभिन्न प्रवेश परीक्षाओं में सामने आ चुकी हैं। व्यापमं के तत्कालीन नियंत्रक भदौरिया अभी राजीव गांधी प्रौद्योगिकी विवि (आरजीपीवी) में पदस्थ हैं। भदौरिया का कहना है कि परीक्षा सही व्यक्ति द्वारा दी जा रही है या नहीं, यह देखना परीक्षा केंद्र प्रभारी और पर्यवेक्षक की जिम्मेदारी होती है। इनका चयन व्यापमं के अध्यक्ष द्वारा किया जाता था। भदौरिया ने कहा कि परीक्षा नियंत्रक की इसमें विशेष भूमिका नहीं होती है। एसटीएफ द्वारा इसके अलावा व्यापमं घोटाले की पुरानी शिकायतों में से दर्ज किए गए दूसरे आठ प्रकरणों में फर्जी मूल निवासी प्रमाण पत्रों की एफआईआर में चिकित्सा शिक्षा संचालनालय के तत्कालीन संचालकों से पूछताछ की गई। इनमें एसएस कुशवाह, डॉ. एनएम श्रीवास्तव, डॉ. एससी तिवारी शामिल हैं जो अब रिटायर हो चुके हैं। तत्कालीन चिकित्सा शिक्षा संचालकों ने एसटीएफ को पूछताछ में अपनी जिम्मेदारी से इनकार किया है। दस्तावेजों के परीक्षण का काम गांधी मेडिकल कॉलेज में काउंसलिंग के दौरान होता है जिसके लिए टीम बनाई जाती है। टीम में सरकारी अधिकारी और कर्मचारी होते हैं।

x

Check Also

बड़ी खबर. रात के अंधेरे में उड़ाई जा रही धारा 144 की धज्जियां. सीधी.

मंगल भारत सीधी. जहां पूरे विश्व में लॉक डाउन की स्थित बनी हुई है. उसी के साथ पूरा भारत वर्ष ...