प्रदेश भाजपा अध्यक्ष अब हाईकमान की मर्जी से होगा तय

भोपाल (मंगल भारत)। भाजपा में अब प्रदेश अध्यक्ष

का निर्वाचन नहीं होगा। पार्टी हाईकमान सीधे प्रदेश अध्यक्ष पद के लिए किसी नेता के नाम का मनोनयन करेगा। राष्ट्रीय अध्यक्ष के निर्वाचन के बाद अब प्रदेश में संगठन चुनाव प्रक्रिया पर विराम लग गया है। गौरतलब है कि भाजपा में संगठन चुनाव की प्रक्रिया अक्टूबर माह से शुरू हुई थी। प्रदेश में बूथ के चुनाव सबसे पहले हुए थे। इसके बाद 1039 मंडलों में से अधिकांश से सर्वसम्मति के आधार पर चुनाव हो चुके हैं। पार्टी के 56 संगठनात्मक जिलों में से 33 में अध्यक्ष के भी चुनाव हो गए हैं। 23 जिलों में अभी चुनाव नहीं हो पाए हैं। पार्टी के संविधान के मुताबिक आधे से अधिक जिलों के अध्यक्षों और प्रदेश प्रतिनिधियों के निर्वाचन के बाद प्रदेश अध्यक्ष का निर्वाचन हो जाता है। राष्ट्रीय चुनाव अधिकारी ने दिसम्बर माह में प्रदेश अध्यक्ष के चुनाव कराना तय किए थे पर किन्हीं कारणों से इन्हें टाल दिया गया था। इसके बाद जनवरी में राष्ट्रीय अध्यक्ष का निर्वाचन का समय आ गया। 21 जनवरी में राष्ट्रीय अध्यक्ष का निर्वाचन हो जाने के बाद अब प्रदेश अध्यक्ष का निर्वाचन टाल दिया गया है। भाजपा सूत्रों ने बताया कि राष्ट्रीय अध्यक्ष का निर्वाचन हो जाने के बाद निर्वाचन प्रक्रिया पूरी हो चुकी है। अब जिन प्रदेशों में प्रदेश अध्यक्ष का चुनाव नहीं हुआ है उनमें प्रदेश अध्यक्ष नियुक्त करने का अधिकार राष्ट्रीय अध्यक्ष को होता है। राकेश सिंह ही रहेंगे अध्यक्ष चुनावी प्रक्रिया पर विराम लगने के बाद अब यह साफ हो गया है कि वर्तमान अध्यक्ष राकेश सिंह ही फिलहाल प्रदेश भाजपा का नेतृत्व संभालेंगे।

x

Check Also

बड़ी खबर. रात के अंधेरे में उड़ाई जा रही धारा 144 की धज्जियां. सीधी.

मंगल भारत सीधी. जहां पूरे विश्व में लॉक डाउन की स्थित बनी हुई है. उसी के साथ पूरा भारत वर्ष ...