कोरोना मामले में भारत अब बेहतरी की ओर

दुनिया भर से कोरोनावायरस से संबंधित जो रिपोर्ट्स और सूचनाएं आ रही है वे भारत के लिए राहत देने वाली कही जा सकती हैं और लगता है कि हम बेहतरी की ओर चलने को हैं। इसका कारण यह है कि भारत में कोरोना संक्रमित मरीज तेजी से ठीक हो रहे हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक शुक्रवार को 24 घंटे में रिकॉर्ड 62,282 मरीज ठीक हुए। अब तक कुल 21 लाख 58 हजार मरीज रिकवर हो चुके हैं। दुनिया के दूसरे देशों का उदाहरण देखें तो भारत कोविड-19 के पीक के नजदीक पहुंच चुका है। इसका मतलब है कि अब मरीजों की संख्या घटने लगेगी। देश में रिकवरी रेट अब 74 फीसदी से अधिक हो चुकी है। 33 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में रिकवरी रेट 50 फीसदी से अधिक है। बताया गया कि देश में कोरोना से मृत्यु की दर दुनिया के औसत से कम है और इसमें लगातार गिरावट आई है। कोरोना से मृत्यु दर अब 1.89 प्रतिशत है। इन आंकड़ों को देखते हुए यह माना जा सकता है कि कोरोना अब भारत में शीर्ष पर पहुंच चुका है। एसबीआई द्वारा कराए गए ताजा विश्लेषण में भी यह बताया गया है कि भारत भी अब बेहतरी की ओर बढ़ रहा है। ऐसा मानने का कारण यह है कि कुछ देशों के पीक डेटा और रिकवरी रेट के आधार पर उनका पीक 75 प्रतिशत माना जा रहा है और भारत भी इस आंकड़े को छूने को तैयार हैं। हालाकि इस आंकड़े को मानक नहीं माना जा सकता क्योंकि पीक और रिकवरी रेट का कोई सीधा कनेक्शन नहीं है। साथ ही हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि विभिन्न देशों की स्थिति परिस्थिति अलग अलग होती है इसलिए सब पर एक ही फार्मूला लागू नहीं किया जा सकता है। फिर भी राहत के लिए हम मान सकते हैं कि इसकी उल्टी गिनती शुरू हो सकती है।

कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक जल्द ही
कांग्रेस के उच्च पदस्थ सूत्रों के अनुसार पार्टी की राष्ट्रीय कार्यसमिति की बैठक अगले सप्ताह प्रस्तावित है जिसकी वास्तविक तिथि एक या दो दिन में तय कर ली जाएगी। बैठक डिजीटल माध्यम से होगी। इससे पहले कांग्रेस अपनी सारी बैठकें ‘जूम’ के माध्यम से कर रही थी, लेकिन इसके बारे में डाटा की निजता से जुड़ी चिंताएं सामने आने के बाद पार्टी ने इस प्लेटफॉर्म को बदलने का निर्णय लिया। सीडब्ल्यूसी की बैठक उस वक्त हो रही है जब अंतरिम अध्यक्ष के तौर पर सोनिया गांधी एक साल की अवधि पूरा कर चुकी हैं। राहुल गांधी के इस्तीफे के बाद उन्हें अंतरिम अध्यक्ष नियुक्त किया गया था। इस बीच, कांग्रेस के कई नेता खुलकर यह मांग कर चुके हैं कि एक बार फिर राहुल गांधी को कांग्रेस की कमान सौंपी जाए। देखना यह है कि सीडब्ल्यूसी इस ऊहापोह की स्थिति से कैसे निबटती है।

गाइडलाइन जारी यानि चुनाव होना तय
निर्वाचन आयोग ने बिहार विधानसभा चुनाव एवं निकट भविष्‍य में होने वाले अन्‍य उपचुनाओं को लेकर नई गाइडलाइन जारी कर चुनाव की हलचल को गति दे दी है। अब यह कहा जा सकता है कि कोरोना के बावजूद देश में चुनाव कराए जा रहे हैं। इसमें पोस्टल बैलेट सुविधा का विकल्प दिव्‍यांग मतदाताओं और 80 साल से अधिक उम्र के लोगों के लिए बढ़ा दिया गया है। यही नहीं अन‍िवार्य सेवाओं में कार्यरत कर्मचारियों एवं कोरोना संक्रमित मरीजों के लिए भी यह सुविधा उपलब्‍ध होगी। कोरोना काल में होने वाले इन चुनावों के प्रचार के लिए भी कई नियम बनाए गए हैं। इसमें उम्‍मीदवार के साथ अधिकतम पांच व्यक्तियों (सुरक्षाकर्मियों को छोड़कर) के साथ घर-घर प्रचार कर सकते हैं। रोड शो के दौरान वाहनों का काफिला 5-5 वाहनों में बंटा होगा। रैलियों की मंजूरी के लिए अलग से प्रावधान तय किए गए हैं। इसके लिए जिला निर्वाचन अधिकारियों को कई निर्देश दिए गए हैं। अब देखना दिलचस्प होगा कि नए स्वरूप में इन चुनावों को कराने का अनुभव कैसा रहता है।

सितंबर में हो सकता है संसद सत्र
कोरोना संकट के बीच जल्द ही संसद का सत्र होने वाला है। सूत्रों के अनुसार संसद का यह सत्र सितंबर के दूसरे सप्ताह से शुरू होगा। इसमें एक दिन लोकसभा की कार्यवाही होगाी और एक दिन राज्यसभा की। यह सत्र चार सप्ताह का होगा। यह भी बताया गया है कि लोकसभा के सांसद सेंट्रल हाल में बैठेंगे और राज्यसभा के सदस्य संसद के दोनों सदनों में बैठेगे। संसद का यह भी एक अलग तरह का अनुभव होगा।

x

Check Also

मंदसौर में इनामी बदमाश ने टीआई पर चलाई गोली, बाल-बाल बचे

मंदसौर, मंगल भारत। जिले के सीतामऊ थाना क्षेत्र के ग्राम बेलारी में फरार इनामी बदमाश अमजद लाला के आने की सूचना ...