कईयों को पीछे छोड़ केंद्र में मंत्री बनेंगे सिंधिया

मंगल भारत

प्रदेश के उपचुनाव में भाजपा को 19 सीटों पर जीत दिलाकर शिवराज सरकार स्थायित्व दिलाने वाले ज्योतिरादित्य सिंधिया कई दिग्गजों को पछाड़ते हुए केंद्रीय मंत्रिमंडल में बड़ी जिम्मेदारी दी जाएगी। दरअसल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस माह के अंत तक मंत्रिमंडल विस्तार कर सकते हैं। इसमें राजग के सहयोगियों को भी शामिल किया जाएगा। बता दें कि अभी प्रकाश जावड़ेकर, नरेंद्र सिंह तोमर और पीयूष गोयल के पास चार से पांच मंत्रालयों का प्रभार है। वहीं खराब परफॉर्मेंस वाले आधा दर्जन मंत्रियों की मंत्रिमंडल से विदाई भी होना तय है।

अधिकारों को लेकर आयोग ने लिया संज्ञानमानव अधिकारों से जुड़े दो मामलों में संज्ञान लेते हुए मध्यप्रदेश मानव अधिकार आयोग के अध्यक्ष न्यायमूर्ति नरेंद्र कुमार जैन ने प्रदेश मुख्य सचिव, प्रमुख सचिव, वित्त विभाग और संचालक पेंशन संचालनालय से एक माह में प्रतिवेदन मांगा है। दरअसल आयोग से प्राप्त जानकारी के अनुसार प्रदेश में एक अप्रैल से 31 अक्टूबर तक बीस हजार से अधिक अधिकारी-कर्मचारी रिटायर हो चुके हैं, लेकिन अब तक उनकी पेंशन शुरू नहीं हो पाई है। यहां तक कि कर्मचारियों को रिटायरमेंट के बाद होने वाले भुगतान भी नहीं हो पाए हैं। उल्लेखनीय है कि शासकीय सेवकों को सेवानिवृत्त होने पर साढ़े 16 महीने का वेतन या बीस लाख रुपए जो भी अधिक हो, भुगतान होता है। लेकिन कोरोना महामारी की वजह से मार्च से जुलाई के बीच सरकार की आय पर खासा असर पड़ा था। जो घटकर 40% रह गई थी। यह पहला मौका है जब रिटायर हो रहे कर्मचारियों को पीपीओ के नाम पर खाली लिफाफे मिल रहे हैं। वित्त विभाग के अधिकारियों का कहना है कि यह मामला पेंशन संचालनालय स्तर का है, वहीं से इस पर रोक है।

चुनाव जीतने पर स्वर भी बदल गए
उपचुनाव के समय नाराज कर्मचारी संगठनों के स्वर अब बदल गए हैं। दरअसल भाजपा की सरकार के बहुमत में आने के कारण ऐसा हुआ है। अब इस वजह से मंत्रियों के स्वागत सत्कार और हार फूल से स्वागत का सिलसिला भी शुरू हो गया है। ऐसे ही एक कार्यक्रम में मंत्री जी के स्वागत के दौरान एक कर्मचारी ने चुटकी ली कि पहले तो आप इन्हीं के खिलाफ नारेबाजी करते थे और अब हर फूल से स्वागत किया जा रहा है। इस पर नेताजी तपाक से बोले काम निकालना है तो हार फूल का सहारा तो लेना ही होगा। बहरहाल नेताजी की बात सुन चुटकी लेने वाले कर्मचारी शांत हो गए और बोले हम भी दुआ करेंगे कि मांगे पूरी हो जाए।

नेताजी बोले बाह्मणों की अनदेखी से हारे चुनाव
उपचुनाव में कांग्रेस की हार चर्चा का विषय बनी हुई है। दरअसल ग्वालियर चंबल में से आने वाले एक ब्राह्मण नेता ने कांग्रेस के पूर्व मंत्री से कहा कि इस चुनाव का परिणाम ब्राह्मणों की अनदेखी के कारण इतना बुरा आया है। यह नेता जी विधायक रह चुके हैं और दूसरे दल से कांग्रेस में शामिल हो गए हैं। इन नेताजी ने यह भी कहा कि यदि यही हाल रहा तो अगले विधानसभा चुनाव में कांग्रेस 28 सीटें भी नहीं जीत पाएगी। वहीं पूर्व मंत्री ने नेताजी को कोने में ले जाकर कहा कि नाराज ना हो मैं आपके साथ हूं। बता दें, कि यह दोनों नेता पीसीसी में प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ के जन्मदिन कार्यक्रम में शामिल होने आए थे। नेता जी ने कहा कि आप पर भरोसा कर रहा हूं आप बात कर लीजिए वरना ब्राह्मणों की अनदेखी कांग्रेस के लिए ठीक नहीं होगी।

x

Check Also

इंदौर में लगातार दूसरे दिन 586 कोरोना पॉजिटिव मरीज मिले

इंदौर, मंगल भारत। इंदौर में लगातार दूसरे दिन एक दिन सर्वाधिक कोरोना संक्रमितों के मिलने का रिकॉर्ड टूटा। रविवार को कोरोना ...