कोरोना पर चुनाव-प्रचार को प्राथमिकता देना भारी पड़ गया

कोरोना पर चुनाव-प्रचार को प्राथमिकता देना भारी पड़ गया।


विधानसभा चुनावों में बंगाल के जो परिणाम सामने आए हैं उस पर भाजपा को ही नहीं बल्कि सभी राजनीतिक विश्लेषकों को भी आश्चर्य हो रहा होगा और निश्चित रूप से अपने आंकलन पर फिर से विचार कर रहे होंगे कि आखिर उनकी गणना में गलती कहां हो गई। भाजपा नेता चाहे कितना ही इन परिणामों को अपनी बढ़त वाला बताएं लेकिन वास्तविकता ऐसी है नहीं। पार्टी ने बड़े विश्वास के साथ आक्रामक अंदाज में यह चुनाव लड़ा और 2019 के लोकसभा चुनाव परिणामों को देखते हुए यह स्वाभाविक भी था, लेकिन वह अति आत्मविश्वास में तब्दील हो गया। लगभग डेढ़ महीने लंबे और आठ चरणों में फैले इस थका देने वाले चुनाव प्रचार अभियान के चलते उसके नेता यह भूल ही गए कि वे केंद्र में शासन कर रही पार्टी के नेता हैं और उनके पास मात्र चुनाव प्रचार ही एकमात्र काम नहीं है बल्कि देश की जरूरतों का भी ख्याल रखना है। किसान आंदोलन हो या कोरोना का फैक्टर सरकार ने सब कार्य ठंडे बस्ते में डाल दिए। इधर कोरोना की दूसरी लहर ने जो आतंक मचाना शुरू किया उसे भी सरकार ने गंभीरता से नहीं लिया। यहां तक कि प्रधानमंत्री मोदी और गृहमंत्री अमित शाह भी कोरोना को कम और चुनाव प्रचार को अधिक तरजीह देते नजर आए। जो मोदीजी कोरोना के पहले दौर में घंटी बजाते और थाली पीटते एक संरक्षक और पालक के रूप में नजर आए थे और देश के नाम संबोधन में गुरु की तरह कोरोना से बचाव की समझाइश देते नजर आए थे वह मोदीजी दूसरे दौर में एकदम विलुप्त से हो गए। कोरोना के इस दूसरे दौर में प्रधानमंत्री और गृहमंत्री की अनुपस्थिति सबको खली। लग रहा था कि मोदी चुनावी रैली और प्रचार से अपने को और अमित शाह को हटा लेंगे तथा कोरोना पर ध्यान देगे। लेकिन मोदी यह निर्णय लेने में चूक गए। खास बात तो यह कि कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने अप्रत्याशित रूप से अंतिम समय में चुनावों से दूर रहने का बुद्धिमत्तापूर्ण फैसला लेकर वाहवाही लूट ली। यह अलग बात है कि राहुल के फैसले से उनकी पार्टी को कोई लाभ नहीं होने वाला था, लेकिन यही फैसला मोदी ने लिया होता तो शायद बिना प्रचार किए ही वे हजारों वोट का फायदा अपनी पार्टी का करा सकते थे। इसमें कोई शक नहीं कि भारत में मोदी के प्रति इतना भक्तिभाव है कि वे बैठे बैठे बाजी पलट सकते हैं। वास्तव में हार के कुछ कारणों में कोरोना की ओर ध्यान न दे पाना सबसे प्रमुख कारण माना जा सकता है और लगता है कि यह कारण परिणामों पर काफी भारी पड़ा।

कोरोना वायरस के कदम थमने  के आसार
अप्रैल में बेतहाशा तेजी दिखाने वाले कोरोना वायरस ने अब कुछ राहत के संकेत दिए हैं और लगता है कि इसकी तेजी अब थमने लगी है। दिल्ली, छत्तीसगढ़, महाराष्ट्र, उप्र तथा मप्र समेत करीब 13 राज्यों में रोजाना होने वाले नए संक्रमितों की संख्या में या तो कमी आई है या उसमें स्थिरता आई है। यह इस बात से भी पता चलता है कि सोमवार को कोरोना के 3 लाख 55 हजार नए मामले सामने आए हैं जो एक मई के 4 लाख 2 हजार की तुलना में काफी कम हैं। हालाकि इसके साथ ही देश ने संक्रमितों की संख्या दो करोड़ के पार पहुंचाने का एक अनचाहा रिकॉर्ड बना लिया। संक्रमण की रफ्तार इतनी तेज रही कि महज 137 दिन में मामले एक करोड़ से 2 करोड़ के पार पहुंच गए। यह संख्या एक लाख से एक करोड़ तक पहुंचने में 360 दिन लगे थे। मतलब चार माह में कोरोना के मामले दो गुने हो गए। इसके अलावा पिछले 24 घंटों में 3438 और मरीजों की मौत हो गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *