चुरहट रामनगर तालाब में बड़ा हादसा 4 बच्चों की मौत

चुरहट रामनगर तालाब में बड़ा हादसा 4 बच्चों की मौत

सीधी जिले  के नगर पंचायत चुरहट अंतर्गत रामनगर में स्थित तालाब में खेलने गए 4 बच्चों की डूबने से मौत हो गई ,यह दर्दनाक घटना चुरहट अंतर्गत रामनगर में बने तालाब के बीच में डूबने से हुई है ! जिसमें से 3 बच्चे एवं एक बच्ची है दो लड़के हिमांशु पटेल 12 वर्ष दीपांशु पटेल 10 वर्ष दिलीप कुमार पटेल राम नगर निवासी के पुत्र है एवं एक लड़का आयुष पटेल उम्र 13 वर्ष दिलीप पटेल का भांजा बताया जा रहा है इसी में एक लड़की भी शामिल है जो जगत बहादुर पटेल की बताई जा रही है!

ली। बताया गया कि चार मासूम बच्चे खेलते हुए तालाब में कमल का फूल तोडऩे के लिए घुसे थे। उनको तालाब की गहराई का अहसास नहीं था। लिहाजा एक-एककर तालाब की गहराई की ओर फूल तोडऩे के लिए घुसते गए और देखते ही देखते चारों की जल समाधि बन गई।
बच्चों के डूबने की सूचना भैंस चरा रही एक लड़की ने परिजनों को दी। आनन-फानन में ग्रामीणों ने तालाब से मृतकों का शव बाहर निकाला गया। लेकिन तब तक देर हो चुकी थी। इधर, एक साथ चार बच्चों की मौत से पूरे गांव में मातम पसरा हुआ है। परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है। गांव में चारों-तरफ सनाका खिचा हुआ है। ये घटना चुरहट थाना अंतर्गत रामनगर तालाब में हुई है।
ये है मामला
मिली जानकारी के मुताबिक बुधवार की दोपहर करीब 12 बजे रामनगर गांव के निवासी चार बच्चें तालाब में कमल का फूल तोडऩे गए थे, लेकिन पानी गहरा होने के कारण चारों बच्चे एक साथ डूब गए। डूबने पर बच्चे तेज आवाज के साथ रोने लगें लेकिन वहां उन्हें बचाने वाला कोई नहीं था। इस घटना को तालाब के किनारे भैंस चरा रही एक लड़की देख रही थी, जो घटना की जानकारी ग्रामीणों को दी गई। ग्रामीणों ने परिजनों को सूचना देने के बाद तालाब में उतरकर शव की तलाश शुरू कर दी गई। पुलिस पहुंचने से पहले ग्रामीणों ने शव को बाहर निकाल लिया गया। घटना के बाद अंचल में मातम फैल गया। पुलिस ने शव का पंचनामा तैयार कर पोस्ट मार्टम कराने के बाद दाह संस्कार के लिए शव परिजनों के सुपुर्द कर दिया गया है
इनकी हुई मौत
तालाब में डूबने से चार बच्चों की मौत हो गई। दिलीप पटेल के दो बच्चे व एक बच्ची थी, तालाब में डूबने से दोनों बच्चों की मौत हो गई। मृतकों में हिमांशु पटेल पिता दिलीप पटेल 14 वर्ष, दीपांशु पटेल पिता दिलीप पटेल 12 वर्ष निवासी रामनगर, सीमा पटेल पिता जगत बहादुर पटेल 10 वर्ष व आयुष पटेल पिता राममणि पटेल 9 वर्ष शामिल हैं।
फूल की सुंदरता खीच ले गई मौत के पास
रामनगर तालाब पौराणिक तालाब है, जिसमें कमल का फूल खिलता है, फूल की खूबसूरती को देखकर बच्चे उसे तोडऩे के लिए तालाब के अंदर गए लेकिन उन्हें तालाब की गहराई का अंदाजा नहीं था, ऐसी स्थिति में तालाब में कमल के फूल की खूबसूरती की बच्चों को मौत के मुंह में धकेल दी।
ननिहाल से नहीं घर जा पाई सीमा
पचोहर गांव निवासी सीमी पटेल पिता जगत बहादुर पटेल गर्मी की छुट्टी बिताने ननिहाल रामनगर गांव आई हुई थी, जिसे घर बुलाने के लिए परिजन आने वाले थे लेकिन सीमा अपने घर पहुंचने से पहले की काल के गाल में समा गई।

मौके पर बलराम पांडे पत्रकार मंगल भारत एवं पत्रकार अंबुज तिवारी ने पहुंचकर जानकारी उपलब्ध कराएं

x

Check Also

गणतंत्र दिवस समारोह के मुख्य अतिथि होंगे ब्राजील के राष्ट्रपति बोलसोनारो

ब्राजील। ब्राजील के राष्ट्रपति जायर बोलसोनारो ने अगले साल भारत के गणतंत्र दिवस समारोह में मुख्य अतिथि बनने का प्रधानमंत्री ...