अमेरिकी राष्ट्रपति बाइडेन ने देश को कर दिया शर्मसार: ट्रंप

मंगल भारत। पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप जो

बाइडेन की आलोचना का कोई भी मौका नहीं छोड़ते हैं। शनिवार को 9/11 की 20वीं बरसी पर ट्रंप ने एक बार फिर बाइडेन पर निशाना साधा। उन्होंने अफगानिस्तान से अमेरिकी सेना को निकालने के फैसले पर सवाल उठाया। साथ ही ट्रंप काबुल एयरपोर्ट पर 13 अमेरिकी सैनिकों और दर्जनों अफगान नागरिकों के मारे जाने की घटना को लेकर भी वर्तमान अमेरिकी राष्ट्रपति को जमकर कोसा। डोनाल्ड ट्रंप ने 9/11 की बरसी पर एक वीडियो संदेश जारी किया था। इसमें उन्होंने कहा कि आज का दिन बहुत ही दुख पहुंचाने वाला है। ट्रंप ने आगे कहा कि इससे भी ज्यादा दुख की बात यह है कि हमारे देश को इस तरह का नुकसान पहुंचाने वालों के खिलाफ युद्ध का अंत बहुत ही खराब ढंग से हुआ है। 9/11 हमले के बाद अलकायदा के खिलाफ की गई अमेरिकी कार्रवाई का हवाला दे रहे थे। गौरतलब है कि 20 साल तक चली लड़ाई के बाद 31 अगस्त को अमेरिकी सेना अफगानिस्तान से वापस लौट आई। अमेरिका ने अफगानिस्तान पर हमला अलकायदा के मुखिया ओसामा बिन लादेन की तलाश में किया था। 9/11 हमले के पीछे ओसामा का हाथ था जिसमें 3000 से ज्यादा लोग मारे गए थे।

हालांकि तालिबान से अमेरिकी फौजों की वापसी का समझौता ट्रंप के कार्यकाल में ही हुआ था। इसके बावजूद उन्होंने टिप्पणी करते हुए कहा कि बाइडेन ने सभी को बेवकूफ बनाया। ट्रंप ने इस बात पर जोर दिया कि वह अगर अमेरिका के राष्ट्रपति होते तो ऐसा कुछ नहीं होता। ट्रंप ने कहा कि अफगानिस्तान से अमेरिकी फौजों की वापसी की योजना काफी खराब रही। यह बहुत ही कमजोरी से भरा था और नेता यह समझ नहीं पाए कि आखिर वहां पर हो क्या रहा है? उन्होंने कहा कि जो बाइडेन ने एक तरह से समर्पण कर दिया। ट्रंप ने कहा कि बाइडेन की इस हरकत से अमेरिका को जो शर्म झेलनी पड़ी है, उसकी भरपाई करने में काफी वक्त लगेगा।